जब एक IVF साइकिल फेल हो जाती है तब पेशेंट के मन में जो सवाल सबसे पहले उठता है, वो है- अब आगे क्या? और क्या-क्या ऑप्शंस हैं मेरे लिए?

सिर्फ़ एक IVF साइकिल के फेल हो जाने का मतलब ये बिलकुल भी नहीं है कि  अब आपको कभी बच्चा नही हो सकता है। इसलिए सब ख़तम हो गया है और अब कुछ नहीं हो सकता ऐसा सोचकर आप अपना मन छोटा बिलकुल भी न करें।
यही वजह है कि IVF साइकिल शुरू करने से पहले काउंसलिंग करवाना और पहले से ही अपनी तरफ से उसके लिए तैयारी करना बहुत ज़रूरी है, क्योंकि इस तरह से आप IVF से सही-सही उम्मीद रख सकेंगे और समझ पाएंगे कि IVF के बाद प्रेग्नेंट होने में थोड़ा समय तो लगता ही है।  
पहली साइकिल के फेल होने का मतलब ये नहीं है की अब कुछ नहीं बचा- बल्कि ये तो आपके अपने मक़सद में कामयाबी पाने की सिर्फ़ एक शुरुआत है ! ज़रूरी चीज़ है साइकिल को अच्छे से समझना ताकि आप इससे सीखें और जान सकें की क्या सही गया और क्या नहीं।
इसीलिए अपने डॉक्टर के साथ बैठना और अपने मेडिकल रिकॉर्ड्स को फ़िर से देखना बेहद ज़रूरी होता है। यहाँ हमें जवाब ढूँढना है सिर्फ़ एक सवाल का और वो है- आपके एम्ब्रीओ की क्वालिटी कैसी थी?
किसी दूसरे IVF स्पेशलिस्ट से राय लेना भी बहुत मददगार साबित हो सकता है ताकि आप अपने एम्ब्रीओ के पिक्चर और IVF ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल उनसे शेयर करके इलाज के और भी नए रास्ते खोल सकें। वो शायद उस पहलु को देख सकें  जो आपका पहले वाला डॉक्टर ना देख पाया हो और आपको बता सकते हैं कि अगर आप दूसरी साइकिल को ट्राय करने वाले हैं तो वो आपके चान्सेज़ बढ़ाने के लिए आपके लिए और क्या बेहतर कर सकते हैं।

क्या आप इस फॉर्म को भरकर डॉ मालपानी को अपनी मेडिकल डिटेल्स www.drmalpani.com/free-second-opinion  पर भेज सकते हैं ताकि वे आपको बेहतर गाइड कर सकें!
×

Open Video